Tuesday, October 19, 2010


Life is a game , play this game with energy,
enthusiasm, empathy and passion .
and play this game for happiness of
our society,friends and family 
after it for ourself.

पानी पी कर पानी में पत्थर मत मारो,
उसे और भी कोई पी रहा होगा ,
ज़िन्दगी जीना है तो हँसकर जियो
क्या पता तुम्हे भी देखकर 
कोई जी रहा होगा

No comments:

Post a Comment